Jan 14, 2014

प्रकृती की सुंदरता का अहसास


प्रकृती के बिखरे ख़जाने को निहारते रहे
निरन्तर , बस बरबस से……
हरी चादर सि ओढ़ा दी , दूर तक वादियो में
सुदूर तक बर्फ की सफेदी और भोर की धूप
उमड़ते सैलानी , घाटी कि ओर पुरे मन से ....
निखरती छटाएँ , उमड़ती घटाएँ
नीले अम्बर से धरा तक फैले सौंदर्य के
अदभुत से नज़ारे , सचमुच द्रश्य नयनाभिराम
हर अवयक्त को उन्मुक्त करके व्यक्त करता
वातायन का सुन्दर सा विधान
ठंडी स्वछ हवाओं का तन को छूना और
श्वासों को गहरा देना , रोमांचित करता हर पल
स्वयं को करीब लाने का , सुनहरा अवसर
सतत उपस्थित आनंद की अनुभूति
रोजमर्रा से दूर जिंदगी से रुबरु होने का अवसर
कितना जरुरी हे जिंदगी में ……..........……

No comments:

Post a Comment

11 Common Mistakes in Business

These are 11 Common business Mistakes made by people. What mistakes lead to business failure? Here is a list of common mistakes in business ...