प्रकृती की सुंदरता का अहसास


प्रकृती के बिखरे ख़जाने को निहारते रहे
निरन्तर , बस बरबस से……
हरी चादर सि ओढ़ा दी , दूर तक वादियो में
सुदूर तक बर्फ की सफेदी और भोर की धूप
उमड़ते सैलानी , घाटी कि ओर पुरे मन से ....
निखरती छटाएँ , उमड़ती घटाएँ
नीले अम्बर से धरा तक फैले सौंदर्य के
अदभुत से नज़ारे , सचमुच द्रश्य नयनाभिराम
हर अवयक्त को उन्मुक्त करके व्यक्त करता
वातायन का सुन्दर सा विधान
ठंडी स्वछ हवाओं का तन को छूना और
श्वासों को गहरा देना , रोमांचित करता हर पल
स्वयं को करीब लाने का , सुनहरा अवसर
सतत उपस्थित आनंद की अनुभूति
रोजमर्रा से दूर जिंदगी से रुबरु होने का अवसर
कितना जरुरी हे जिंदगी में ……..........……

Share

Do not Miss

प्रकृती की सुंदरता का अहसास
4/ 5
Oleh

Subscribe via email

Like the above article? Add your email address to subscribe.