No posts with label Hindi poem on truth. Show all posts
No posts with label Hindi poem on truth. Show all posts

नूतन प्रभास Light of life

  प्रखर प्रहारों को झेलकर जो तपकर कंचन बन जाते, अभावों में भी, नमन करता संसार उन्हें परिष्कृत रहते, जो भावों में भी ...। इंद्रधनुषी रंगो का ...