विश्वास या भय ( Faith or Fear )


जीवन में कई बार ऐसी स्थितियाँ आ जाती है कि हम किस तरह जी रहे है और हमे किस तरह जीना था उसमें अंतर नही कर पाते। ज्यादातर लोग तो इस फर्क को समझ ही नही पाते और जो लोग जब तक समझ पाते, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।
इसी संदर्भ में आइए, हम जीवन में भय और विश्वास के बारे में कुछ जानने की कोशिश करते है। मेरे एक मित्र है जो नियमित रूप से किसी धार्मिक स्थान पर जाते है एवं उनकी मान्यताओं के अनुरूप पूजा-पाठ इत्यादि करते है
मेरे मन मे भी उनके प्रति बड़ा आदरभाव है। उनका हमेशा ऐसा मानना है कि धार्मिक क्रियाओं से व्यक्ति में अच्छाइयों के संस्कार आते है और काफी हद तक यह ठीक भी था। एक दिन किसी कारणवश वो अपनी इस नियमित क्रिया को कर नही पाये ओर योगवश उसी दिन उनके घर मे कोई बीमार हो गया। अब बीमारी कोई पूछकर तो आती नही पर मेरे मित्र के मन मे यह बात घर कर गई कि धार्मिक क्रिया नही की तो ऐसा हो गया। 
यहीं पर हमें सतर्क रहने की आवश्यकता है। हम श्रद्धा और भय में अंतर नही करते और अपनी कहानी को ओर दुखद बनाने के सारे प्रयास करने लग जाते है। अब बताइये उपरोक्त अवस्था मे श्रद्धा कम थी या भय ज्यादा था। सचमुच सोचनीय विषय है। न तो हम श्रध्दा ओर न ही भय के अस्तित्व को पूरी तरह नकार सकते है। आपने कई बार ऐसा सुना होगा कि ऐसा नही करोगे तो ऐसा हो जाएगा। ऐसा करोगे तो बहुत अच्छा रहेगा। प्रश्न उठता है कि यदि मनुष्य या जीव कर्मो के अनुसार फल पाते है तो समाज में इतना भय कौन फैलाता है। सीधी सी बात है कि ये सब वो ही लोग करते है जिनको इन सबसे सीधा फायदा पहुँचता है। ये फायदा सिर्फ पैसों का ही नही वर्चस्व, नाम, और स्वामित्व के रूप मे भीे पहुंचता है।

हर एक व्यक्ति अपनी शुद्ध आत्मा के साथ इस संसार मे जन्म लेता है और अपने प्रारब्ध के अनुरूप जीवन जीता है। हँसने वाली बात तो यह है कि जब बहुत से लोग किसी बात को सत्य मानने लग जाते है तो उस कथित सामूहिक सत्य को सरल स्वभाव वाले व्यक्ति शंका तो नही करते बल्कि उसे और फैलाने लग पड़ते है और फिर शुरू होता है उनको फंसानेका खेल। विश्वास करना चाहिए पर यह अंधा विश्वास नहीं हो इसका सदैव ख्याल रखना चाहिए।

हम कोई कार्य विश्वास से प्रेरित होकर रह है अथवा सिर्फ किसी ज्ञात या अज्ञात भय वश होकर कर रहे है इसका ज्ञान जरूरी है वरना आपको भटकाने के लिए पूरा जमाना तैयार खड़ा मिलेगा। अपना अनुभव और उससे उपजा विश्वास (trust), श्रद्धा ( faith) इन दोनों के फर्क को भी अच्छे से समझना चाहिए। इसके बाद डर (fear) और मान्यताओं (perceptions) को पहचाने। इसमें भी व्यक्तिगत और सामूहिक मान्यताओं को अलग अलग करके देखे तो आप समझ पाएंगे कि यह उल्लू बनाने का उद्योग कितना फल फूल रहा है। यहां मेरा यह आशय कभी नही है कि आप धर्म के विमुख बने, मेरा तो बस इतना मानना है कि कही सामुहिक मान्यताओं के चलते कहीं हम वास्तविक स्वआत्मा के विरूद्ध तो बर्ताव नही कर रहे, इसका भान सतत रहना चाहिए। हमारी धार्मिक साधना पद्धति भिन्न हो सकती है परंतु मन और ह्रदय दोनों जागृत रहे ऐसी अपेक्षा है।

Share

Do not Miss

विश्वास या भय ( Faith or Fear )
4/ 5
Oleh

Subscribe via email

Like the above article? Add your email address to subscribe.