Orientation Matters







People crave for results, fruits, comfort, pleasant situation, power, fame, good health, fashion, glamour and so many things. Surprisingly, many of them want it free of cost with no sacrifice.

The world "free" is very attractive and probably searched frequently on all search engines too. In my 30 years of practice, I experienced it very closely with people of almost all age groups. The situation is so discouraging that, if you advise someone to pursue and take some pain, he feels offended. What does it mean? Only taking, collecting, managing to have and never give apart, not to be bothered and, all this reflects orientation of a person. In the age of technology, we find people believing more and more in "things will settle automatically" and the outcome will be as per their requirement.

Please allow me to be rude to say that thief are not just the people who steal something, doing nothing and expecting all good is a big theft. In fact, it hurts constantly, if it has become habit.

How To Overcome Such Orientation Or Mentality


Now the question comes how to overcome such orientation or mentality. There are two kinds of people, one, those who wants change, but just lack motivation or some kind of backing, second, those who are by nature big thief and always avoid taking efforts , for this kind of people, to be very frank, no outside motivation works, they will repeatedly go through a number of lessons in life and till the time they really understand , time would have gone for them to make a change. I know I am rude here in writing this truth but it would be unjustified if I don't show real picture. 

For those who want to make a real change, I would like to go on writing.. Count your active life left , that too now, be realistic, see who are the people whom you never noticed, but helping you without exceptions, I know many of you would answer, "I don't have time" but just think, if everyone says the same thing, no one would have time for others and our tiny world would become more selfish which is already happening. It's your call, it's your priority or orientation, which will define your destiny too.

Don't lose hope, initially it will sound very odd because you are not attuned to "work-deserve-results" mode. Gradually, it will be new normal and, have my words, you will be proud of yourself with a wonderful feeling of good life with better orientation.


 CA Ashok Madrecha
Read more

मन और चेतन का विश्लेषण

 मन और चेतन का विश्लेषण

Mind and Spirit Analysis





हमे मन और चेतन का अनुभव शरीर के द्वारा होता है। यदि आप थोड़ा सूक्ष्म विश्लेषण करे तो देखेंगे कि हम हर वक्त विचारों, क्रियाओं या प्रतिक्रियाओं के इर्द गिर्द ही घूमते रहते है। और ये सब किसी विश्वास, भय, अपेक्षा, अहंकार या इच्छा विशेष के कारण होता है।

मन और चेतन को समझना बहुत आवश्यक है। मन हमारे शरीर में सोचने और कल्पना करने की असीमित ऊर्जा का स्त्रोत्र है जबकि चेतन इसको संचालित करने के साथ हमेशा अच्छे और बुरे में फ़र्क करने का विवेक भी प्रदान करता है। मन की प्रबलता अनचाहे आवरण का निर्माण कर देती है जिससे हमारे विवेक या प्रज्ञा अवरुद्ध हो जाते है और शरीर उनका संकेत मिलने पर भी उपेक्षा करना शुरू कर देता है। चेतन प्राण है और मन साधन है , चेतन अपनी अभिव्यक्ति शरीर और मन के संयोग से करता है।


मन और चेतन 💥

मन या चेतन यदि एक दूसरे से द्वंद्व करते है तो वह व्यक्ति निश्चित रूप से तनाव या अवसादग्रस्त रहेगा। इसके विपरीत यदि इन दोनों में पूरा तालमेल है तो उस व्यक्ति को सुख ढूंढने की जरूरत ही नहीं पड़ती है। प्रश्न यह उठता है कि ये कैसे संभव हो सकता है। इसका उत्तर है कि ये सब एक दिन में नहीं परन्तु सतत अभ्यास से संभव हो सकता है। किसी भी वस्तु या विचार को उसके मूल स्वरूप में जानने का सतत प्रयास इस संतुलन के करीब ले जाता है। यदि किसी भी निर्णय में मन के साथ चेतन की साक्षी भी है तो वैसे निर्णय बहुत अचूक होते है। ऐसा संयोग प्रतिकूल परिस्थतियों में भी समय को अनुकूल बना देता है।

मन और चेतन, दोनों में असीम संभावनाएं और अथाह शक्ति है। इनके समायोजन का पुरुषार्थ तो करना ही चाहिए। जो भाग्यशाली इस मर्म को समय पर समझ लेते है वे सचमुच जीवन को सफल बना लेते है।

Read more

जरूरत (NEED) 💢💢

Hindi poem on Need



समय सहेजना दोस्तों
ये बहुत कीमती है।
क्या करना कब करना
क्या नहीं करना
निर्णय जरूरी है।

हर मोड़ पे द्वंद होंगे
कोशिशें बहुत होगी
तुम्हे रोकने की
पर चलना जरूरी है।

जिंदगी की ऊंच नीच में
रास्ते सीधे नहीं होते
लगती रहेगी ठोकरें
पर संभलना जरूरी है।

कभी हादसों से गुजरते हुए
अगर तुम गिर पडों
चोट भी लगे तो याद रहे
उठना जरूरी है।

कोई अपना दिल दुखाएं
या बहुत सताए
क्षमा कर देना
ये सब भूलना जरूरी है।

बिल्कुल अकेलापन अच्छा नहीं
कोई पूरा सच्चा नहीं
कम ही सही पर
दोस्तों से मिलना जरूरी है।

कुछ महक देते
कुछ सिर्फ सुंदर होते
ये बाग बगीचे बने रहे
तो फूलों का खिलना जरूरी है।

कितना भी कुछ बन जाओ
अहंकार से दूर रहना
खुश रहने के लिए ध्यान रहे
सबसे पहले सरलता जरूरी है।

... अशोक मादरेचा


Read more