Showing posts with label Article on thoughts. Show all posts
Showing posts with label Article on thoughts. Show all posts

विश्वास या भय ( Faith or Fear )


जीवन में कई बार ऐसी स्थितियाँ आ जाती है कि हम किस तरह जी रहे है और हमे किस तरह जीना था उसमें अंतर नही कर पाते। ज्यादातर लोग तो इस फर्क को समझ ही नही पाते और जो लोग जब तक समझ पाते, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।
इसी संदर्भ में आइए, हम जीवन में भय और विश्वास के बारे में कुछ जानने की कोशिश करते है। मेरे एक मित्र है जो नियमित रूप से किसी धार्मिक स्थान पर जाते है एवं उनकी मान्यताओं के अनुरूप पूजा-पाठ इत्यादि करते है
मेरे मन मे भी उनके प्रति बड़ा आदरभाव है। उनका हमेशा ऐसा मानना है कि धार्मिक क्रियाओं से व्यक्ति में अच्छाइयों के संस्कार आते है और काफी हद तक यह ठीक भी था। एक दिन किसी कारणवश वो अपनी इस नियमित क्रिया को कर नही पाये ओर योगवश उसी दिन उनके घर मे कोई बीमार हो गया। अब बीमारी कोई पूछकर तो आती नही पर मेरे मित्र के मन मे यह बात घर कर गई कि धार्मिक क्रिया नही की तो ऐसा हो गया। 
यहीं पर हमें सतर्क रहने की आवश्यकता है। हम श्रद्धा और भय में अंतर नही करते और अपनी कहानी को ओर दुखद बनाने के सारे प्रयास करने लग जाते है। अब बताइये उपरोक्त अवस्था मे श्रद्धा कम थी या भय ज्यादा था। सचमुच सोचनीय विषय है। न तो हम श्रध्दा ओर न ही भय के अस्तित्व को पूरी तरह नकार सकते है। आपने कई बार ऐसा सुना होगा कि ऐसा नही करोगे तो ऐसा हो जाएगा। ऐसा करोगे तो बहुत अच्छा रहेगा। प्रश्न उठता है कि यदि मनुष्य या जीव कर्मो के अनुसार फल पाते है तो समाज में इतना भय कौन फैलाता है। सीधी सी बात है कि ये सब वो ही लोग करते है जिनको इन सबसे सीधा फायदा पहुँचता है। ये फायदा सिर्फ पैसों का ही नही वर्चस्व, नाम, और स्वामित्व के रूप मे भीे पहुंचता है।

हर एक व्यक्ति अपनी शुद्ध आत्मा के साथ इस संसार मे जन्म लेता है और अपने प्रारब्ध के अनुरूप जीवन जीता है। हँसने वाली बात तो यह है कि जब बहुत से लोग किसी बात को सत्य मानने लग जाते है तो उस कथित सामूहिक सत्य को सरल स्वभाव वाले व्यक्ति शंका तो नही करते बल्कि उसे और फैलाने लग पड़ते है और फिर शुरू होता है उनको फंसानेका खेल। विश्वास करना चाहिए पर यह अंधा विश्वास नहीं हो इसका सदैव ख्याल रखना चाहिए।

हम कोई कार्य विश्वास से प्रेरित होकर रह है अथवा सिर्फ किसी ज्ञात या अज्ञात भय वश होकर कर रहे है इसका ज्ञान जरूरी है वरना आपको भटकाने के लिए पूरा जमाना तैयार खड़ा मिलेगा। अपना अनुभव और उससे उपजा विश्वास (trust), श्रद्धा ( faith) इन दोनों के फर्क को भी अच्छे से समझना चाहिए। इसके बाद डर (fear) और मान्यताओं (perceptions) को पहचाने। इसमें भी व्यक्तिगत और सामूहिक मान्यताओं को अलग अलग करके देखे तो आप समझ पाएंगे कि यह उल्लू बनाने का उद्योग कितना फल फूल रहा है। यहां मेरा यह आशय कभी नही है कि आप धर्म के विमुख बने, मेरा तो बस इतना मानना है कि कही सामुहिक मान्यताओं के चलते कहीं हम वास्तविक स्वआत्मा के विरूद्ध तो बर्ताव नही कर रहे, इसका भान सतत रहना चाहिए। हमारी धार्मिक साधना पद्धति भिन्न हो सकती है परंतु मन और ह्रदय दोनों जागृत रहे ऐसी अपेक्षा है।
Read more

Think Beyond Numbers



We are growing up with constantly chasing various kinds of numbers. We think and act while keeping numbers always in mind. I don't deny the importance of numbers, but life is far larger than numbers. Knowingly or unknowingly we are so entangled with the numbers that everything we try and express in numbers. We count likes, shares and views on social media. We tend to feel depressed if people don't like our selfies. Sometimes we can't help, a student's performance is measured in numbers, employee's and even company's ranking is decided with targets in numbers and the list goes on. A mere running after numbers and ignoring true happiness will make you imbalanced.

There is an ocean of data and numbers around us and everybody by default follows some set of data either related or unrelated to him. Many of us follow these as if we are not left with any other option or we have such apprehensions in our minds. Prolonged chasing of numbers certainly creates stress and it has to be managed by differentiating what is meaningful, worthwhile and what's not.

Think beyond numbers, there are many things in life where counting is not important. Few of them are:

Feelings
              Emotions
                              Gratitude
                                             Values
                                                        Vision
                                                                   Respect
                                                                                Love

and lots more aspects of real life, all these, we can't afford to ignore. This is an info tech age, and we are bound to remain with numbers, but by being cautious we can weed out excessive numbers and make our life happier, balanced and effective too.
Read more

पैसा है पर सुख नहीं तो पढ़े...


आप सभी ने कहीं न कहीं यह जरूर देखा होगा, सुना होगा या महसुस किया होगा कि इस संसार में कई परिवार या व्यक्ति ऐसे है जिनके पास संपत्ति है और आमदनी  की अच्छी व्यवस्था है फिर भी ख़ुशी नहीं। यह सचमुच एक बड़ी विडम्बना है परंतु सत्य है।
कुछ उदाहरण पर चर्चा करते है :
एक व्यक्ति के पास पैसा बहुत है परन्तु उसे शिकायत है कि लोग उसे सम्मान नहीं देते।
एक महाशय अपने सभी रिश्तदारों से नाराज चल रहे है।
एक परिवार पैसे के साथ सामाजिक और राजनैतिक रूप से काफी प्रभावशाली है फिर भी वहाँ खुशियां दिखाई नहीं देती।
एक परिवार में बच्चे सबका अनादर करते है।
कहीँ पर स्त्रियों पर अत्याचार की स्थिती है।
किसी जगह पे रोगों ने अपना अड्डा जमा लिया है।

आखिर क्या कारण है कि इतना सब होते हुए भी जीवन में रिक्तता का निर्माण हो जाता है। मनुष्य इतना अकेला हो जाता है। इन सब विडंबनाओं के पीछे कुछ खास कारण है, आओ हम इस पर गौर करे।

कारण :

1. सिर्फ खुद के बारे में सोचना या करना।
2. रिश्तों के बजाय सामग्री में सुख खोजना।
3. अनचाही व्यस्तता ।
4. दोहरे मापदंडो वाली जिंदगी जीना।
5. सिर्फ इकठ्ठा करने की प्रवृत्ति  ।
6. अव्यवहारिक अपेक्षाओं में जीना।
7. अपने अहम् का पोषण करने की प्रवृत्ति।
8. भ्रम या सबको खुश करने की आदत।
9. दूसरों का श्रेय खुद लेने की आदत।
10. भविष्य को हमेशा अच्छा मानकर चलना।
11. रचनात्मक बातों के बजाय सिर्फ वाद विवाद करना।
12. मानवीय मूल्यों का अनादर करना।
13. समय के साथ परिवर्तन को नहीं अपनाना।
14. खान-पान की मर्यादाओं का सतत उलंघन।
15. परिवार या रिश्तेदारों में मेल-मुलाकातों का अभाव।

उपरोक्त सभी बाते कई लोगों का व्यवहारिक अध्ययन करने के उपरान्त लिखी गयी है। यहां पर ऐसे भी लोग उपलब्ध है जिन्होंने सम्पूर्ण जीवन में किसी की एक बार भी मदद करने का आनंद नहीं लिया। हर व्यक्ति अपने आप में दूसरे से भिन्न होता है फिर भी यदि इन बातो को हम थोडा भी जीवन में उतार सके तो काफी परेशानियों से बच सकते है और जीवन को खुशहाल बना सकते है।
..अशोक मादरेचा
Read more

Stay Focused



While accomplishing a task or otherwise, always there is a possibility of losing our focus and indulging in unwarranted activities. We go for buying vegetables and we start discussing politics. Guests visit our home and instead of focusing on hospitality we suddenly start talking about religion which probably we don't follow in our routine. We attend so many meetings and at the end we feel outcome is far less as compared to our expectations. There are many such instances and the list goes on.

Constant self vigilance can be achieved by practice and that is the only way to see our thought process and control it to keep desired things in loop and focus. Many time we assemble to meet with preset agenda and by some influence or otherwise we leave track and see whole agenda itself is hijacked by others.

The simple reason for all this is having an ad hoc approach which makes us ineffective while dealing with different situations. Compare a text message with an other text message having some meaningful picture, I feel the other one would be far more effective. At the end of each day if we start counting that how many times we talked non sense and irrelevant things, we would start laughing at ourselves. It is bitter truth and we must accept it for striking right balance in life.

The severity of our unfocused approach is not immediately known. Ask a person about his feelings who missed choosing a right career at the start or anyone who missed on saving while he had very good earnings and they won't even be able to have proper words to express their repentance.

The moot point we should know is whatever we do, we don't have unlimited time so do the right things at right time with right and judicious use of resources available with us.
Read more

Programme the Brain



We are on or off is a question. While alive we can say we are on and on expiry we are off. There are other situations, while slipping or in unconscious state, can we say we are on or off. Till we are alive we are engaged so we are on and till the death there is constant programming and our brain too writes complex codes of our life software. One has to understand this programming. Take one example, a person travel overnight by bus and while taking breakfast in morning at his home he feels as if he is traveling and moving in a bus. Many of us had such experience. The point here is that to understand what is the reason behind such experience. The reason is that our brain stores data and if there is repeated situations it creates memory slots which gradually becomes in built programmes which if not checked forms habit and then the mind works in sync with such memory slots.

 The moot point here is that there are two type of brain programmes one which are known to us and the others which are not felt or known completely even when these run in our mind and command body. For instance while digesting food and while breathing, our attention is not sought by body in general.

Now let us think about why it is important to know about brain programming for achieving balancing in life. When we know that repeated instructions or situations leads our brain to react in that direction then it becomes very important how to stay positive and avoid negative thoughts and people both. If you are in company of extreme negative people than very high chance you too start behaving negatively and the reverse too is true. A vigilant person can train his own brain what kind of programming it should seek or not at all. Actually speaking reading about all this programming by the brain would be always little than the practical experience. If remain awakened about our actions and surrounding situations we can write our own program of blessed life and create divine realm around us truly.
Read more